Monday, June 30, 2008

सावन के महीने में...

गोरी इतराती है
खूब बलखाती है
झूलों की पेंग संग
झूम झूम जाती है
सावन के महीने में।

मायका महकाई है
सुसरे से आई है
वो नवेली दुल्हन
जो मेंहदी रचवाईं है
साथ में भौजाई है
सावन के महीने में।

बदरों की बेला है
पानी का रेला है
झप झप का खेला है
सावन का मेला है
बजती पिपिहरी में
लोगों का रेला है
सावन के महीने में।

6 comments:

Advocate Rashmi saurana said...

bhut sundar jari rhe.

sanjay patel said...

सुन्दर सी बात है
नये नये पात हैं
सुरीले स्वराघात हैं
भीगे दिन रात हैं
सावन के महिने में

Udan Tashtari said...

गजब चित्रण किया है भाई शब्दों से, वाह मित्र, दिल खुश कर दिया. ऐसे ही लिखते रहो.

mastram ki masti me media said...

are chacha ji aap ne sawan me gaon ki gori ka usi tarah marmik chitran kiya hai jis prakar kalidaas ne meghdutme me kaale megh se baat karti hui us virah vetna me jli hui knya ka vardan kiya hai.
ghjab ka likhte hai.

mastram ki masti me media said...

are chacha ji aap ne sawan me gaon ki gori ka usi tarah marmik chitran kiya hai jis prakar kalidaas ne meghdutme me kaale megh se baat karti hui us virah vetna me jli hui knya ka vardan kiya hai.
ghjab ka likhte hai.
rajnish tripathi

mastram ki masti me media said...

are chacha ji aap ne sawan me gaon ki gori ka usi tarah marmik chitran kiya hai jis prakar kalidaas ne meghdutme me kaale megh se baat karti hui us virah vetna me jli hui knya ka vardan kiya hai.
ghjab ka likhte hai.
rajnish tripathi